Category Archives: Ashalkushal

दो दिवसीय उत्तराखंड महिला सम्मेलन

‘नर्मदा बचाओ आंदोलन’ से जुड़ी मेधा पाटकर ने उत्तराखंड में बनने वाले पंचेश्वर बांध के बारे में भी खुल के बात की। उन्होंने कहा ‘हम लोग नर्मदा को बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं और पहाड़ के लोगों को महाकाली को बचाने के लिये लड़ना होगा।’ उन्होंने कहा ‘यह बहुत दुःख का विषय है कि […]

पलायन का इलाज बार्सू गाँव के पास है

हिमालयी भौगोलिक परिवेश में स्थानीय संसाधनों के उपयोग व आजीविका को लेकर सरकारें, योजनाकार तथा संवेदनशील नागरिक लगातार चिन्तित रहते हैं। खेती-किसानी से विमुख होकर मैदानी इलाकों में पलायन सबसे बड़ी समस्या बन गया है। इसका समाधान कैसे ढूँढा जाये, इसके लिये जगमोहन रावत जी और उनके बार्सू गांव के अनुभव मार्गदर्शक हो सकते हैं। […]

गाँवों को शहर बनाने की कवायद

उत्तराखंड में भूमि का बंदोबस्त इस तरह है कि अधिकांश किसानों के पास नाप भूमि के साथ-साथ बेनाप भूमि भी है। गाँव वालों के पास तो केवल बेनाप भूमि ही है। इस भूमि पर उनका मकान है तथा खेती भी होती है। नगरपालिका बन जाने के बाद बेनाप भूमि के नजूल में परिवर्तित होने की […]

बदहाल होती जा रही 108 एंबुलेंस सेवा

139 एंबुलेंसों में से लगभग 75 एंबुलेंस तो बिल्कुल खराब हालत में हैं और ये अब तक लगभग 5 लाख किमी. तक चल चुकी हैं। बाँकी बची हुई एंबुलेंस भी अच्छी हालत में नहीं हैं। हालांकि 61 नई एंबुलेंस को इस बेड़े में शामिल होना है पर वो कब तक संभव हो पायेगा यह अभी […]

लगातार रुकावटें आ रही हैं पंचेश्वर बांध के सामने

उत्तराखंड में महाकाली नदी पर बनने वाले 315 मीटर ऊँचे पंचेश्वर बांध के प्रतिरोध में तब एक नया मोड़ आ गया, जब देश के 45 महत्वपूर्ण व्यक्तियों ने पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के सचिव व पर्यावरण आकलन समिति के अध्यक्ष एवं सदस्य सचिव तथा सभी सदस्यों को पत्र लिखकर पंचेश्वर बाँध की पर्यावरणीय […]

पत्रकारों को अब भ्रष्टाचार नहीं दिखता 

खबड़ोली गांव में चल रहे भ्रष्टाचार के बारे में हरीश सुप्याल ने बताया कि खबडोली गांव को वर्ष 2009 में निर्मल गांव घोषित करने के बाद 58 शौचालय बनाए गए। ये अपने आप में चैंकाने वाली बात थी। आरटीआई से मिली सूचना में गांव में तेरह लोगों को फर्जी तरीके से दो बार शौचालय देना […]

डबल इंजन की सरकार का आपदा पीड़ितों को ऑल वेदर रोड का डबल जख्म

गजेंद्र रौतेला प्रभावितों का कहना है कि वर्ष 2013 की भीषण आपदा के पश्चात लोग अपने संघर्षों से पुनः अपने घर व्यवसाय आदि को पुनर्स्थापित करने की जद्दोजहद कर ही रहे थे कि ऑल वेदर रोड के नाम पर उन्हें बेघर और बेदखल किया जा रहा है । इस प्रकार की अमानवीय और असंवेदनशील किस्म […]

‘कुत्तों ने नोचा था लोहाघाट में बछड़े का सिर’

“हम बछड़े के अवशेषों की फोरेंसिक जांच करवाने के बारे में पता कर रहे हैं। लेकिन परिस्थितिजन्य साक्ष्य के अनुसार यह बहुत स्पष्ट है कि किसी इंसान ने इस बछड़े का सिर नहीं काटा है, जबकि पहले से ही मृत इस बछड़े के सिर को धड़ से अलग करने का काम कुत्तों ने किया है।” […]

नशा नहीं रोज़गार तथा गैरसेण राजधानी के लिये एक पदयात्रा

“…आन्दोलनों की दृष्टि से इस वक्त उत्तराखंड में जबर्दस्त सुनसानी है, मगर आशा है कि इस पदयात्रा से दबी हुई चिंगारी एक बार फिर से सुलगेगी। पदयात्री प्रवीण सिंह का कहना है कि वे उत्तराखंड की तमाम जन समस्याओं के अतिरिक्त पंचेश्वर बाँध के बारे में भी जनता से बातचीत करेंगे और एक जनमत तैयार […]

जौलजीबी मेले का उद्घाटन, ‘पंचेश्वर’ को भूल गए सीएम

”मेले में सीएम हमारे मेहमान थे। इसलिए हमने उनका स्वागत किया और कोई भी विरोध प्रदर्शन उनके खिलाफ नहीं हुआ। लेकिन अगर पंचेश्वर बांध में हमें डुबोया जाएगा तो हम हर तरह से इसका विरोध करेंगे।” – जौलजीबी व्यापार संघ अध्यक्ष धीरेन्द्र धर्मशक्तू जौलजीबी: भारत और नेपाल की सीमा पर हर साल होने वाले एतिहासिक जौलजीबी मेले की […]